प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना – PMFBY क्या हैं? Online Registration कैसे करें?

PMFBY - प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना – PMFBY किसानों को बहुत ही कम कीमत में फसलों के लिए बीमा पॉलिसी मिलती है | भारत सरकार ने इस योजना को किसानों के फसलों को आपदा में खराब होने के बदले में वित्तीय सुरक्षा के रूप में शुरू किया है | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत सभी किसान फसलों के लिए बीमा कवर प्राप्त कर सकते हैं |

सरकार ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ( Prime Minister Crop Insurance Scheme ) के जरिए किसानों को 3 साल में 8,800 करोड रुपए खर्च करने के साथ ही 50% किसानों को इस योजना में शामिल करने का लक्ष्य रखा है | इस योजना का कार्यभार और निगरानी “कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय” के पास है |

PMFBY – प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना क्या है?

 

Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana – PMFBY (प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना) किसानों की पैदावार के लिए एक सुरक्षा बीमा सर्विस है | इस योजना से किसानों को उनके प्राकृतिक आपदा द्वारा खराब फसलों के लिए बीमा कवर दिया जाता है, ताकि किसानों की आय बराबर रह सकें |

PMFBY योजना को भारत सरकार, वन नेशन-वन स्कीम के आधार पर सपोर्ट कर रही है | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का प्रशासन “भारत सरकार के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय” द्वारा किया जाता है | यह भी पढ़े – किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) क्या है? KCC कैसे मिलेगा? KCC लोन व ब्याज दर की पूरी जानकारी

इस फसल बीमा योजना में भाग लेने के लिए कृषि सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग (DAC & FW) ने कृषि बीमा कंपनी (AIC) को नामित सूची में शामिल किया है | इसके साथ ही कुछ छोटी बीमा कंपनियों को भी उनकी वित्तीय ताकत, बुनियादी ढांचे और जनशक्ति के आधार पर शामिल किया गया है |

 

Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana – PMFBY

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में सभी प्रकार के खाद्य और तिलहन फसलों को वार्षिक वाणिज्यिक/ बागवानी फसलों को शामिल किया गया है | इस योजना के अंतर्गत फसलों की बुवाई से लेकर कटाई तक होने वाले सभी नुकसान या स्थाई आपदाओं जंगली जानवर द्वारा आक्रमण से फसलों की क्षति हेतु अतिरिक्त बीमा सुरक्षा प्रदान की जाती है, जिससे किसानों को होने वाली हानि से बचाया जा सकें |

सरकार का लक्ष्य योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र में फसल बीमा की पहुंच को 50% तक कवर करना है, साथ ही इस योजना के अंतर्गत किसानों को सभी प्रकार की खरीफ फसलों के लिए केवल 2% एवं सभी रबी फसलों के लिए 1.5 % का एक समान प्रीमियम भुगतान किया जाता है | जबकि वार्षिक वाणिज्यिक और बागवानी फसलों के लिए केवल 5% प्रीमियम होगा | यह भी पढ़े – फ्री Ration Card योजना क्या है? Free Ration Card Online Apply कैसे करें?

 

PMFBY – “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना” के क्या फायदें हैं?

PradhaanMantree Phasal Beema Yojana से किसान अपनी फसलों को प्राकृतिक आपदाओं, फसल पर कीटों का रोग, प्राकृतिक व माननीय नुकसान और आवारा पशुओं द्वारा किए हुए नुकसान की भरपाई हेतु किसानों को बीमा कवर के रूप में आर्थिक सहायता दी जाती है | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को “भारतीय कृषि बीमा कंपनी” द्वारा नियंत्रित किया जाता है |

फसल खराब होने पर किसानों को आर्थिक सहायता देने पर किसानों का भरोसा हमेशा बना रहता है और फसल बीमा की पारदर्शिता को भी बढ़ावा मिलता है | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के जरिए किसानों द्वारा निम्न प्रकार से प्रीमियम भुगतान लिया जाताा है –

 

खरीफ की फसल– कपास, अरहर, मक्का, मूंगफली, बाजरा, ज्वार, तिल, मूंग, मोठ इत्यादि फसलों की जून-जुलाई के महीने में बुवाई तथा अक्टूबर के महीने तक कटाई के लिए फसल बीमा के लिए केवल 2% का प्रीमियम भुगतान किया जाता है |

 

रबी की फसलें- गेहूं, मशहूर, जौ, चना, मटर, सरसों, अनार, दलहन, तिलहन इत्यादि फसलों को नवंबर-दिसंबर में बोया जाता है तथा फरवरी से मार्च के बीच में काटा जाता है | इसीलिए रबी की फसलों हेतु फसल बीमा केवल 1.5% का प्रीमियम भुगतान किया जाता है |

 

वार्षिक वाणिज्यिक फसलें– गन्ना, तंबाकू इत्यादि और बागवानी फसलें- फल, आलू, सब्जियां, फ्लावर, मसाले और औषधियां इत्यादि फसलों हेतु केवल 5% का प्रीमियम भुगतान किया जाता है |

यह भी पढ़े – Bank में Account कैसे खोले? नया बैंक खाता खोलने के दस्तावेज

 

PMFBY योजना का क्या उद्देश्य हैं?

प्रधानमंत्री कृषि/फसल बीमा योजना के अंतर्गत निम्न उपायों के द्वारा कृषि में स्थाई उत्पादन का समर्थन किया जाता है-

  • अप्रत्याशित घटनाओं जैसे- प्राकृतिक आपदा और जानवरों द्वारा फसलों को नष्ट करने से हुई हानि से पीड़ित किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है |

 

  • किसानों को खेती में निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए उनकी आय को स्थिर रखने हेतु “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना” के जरिए वित्तीय सहायता दी जाती है |

 

  • इस योजना के जरिए किसान को खेती करने के लिए आधुनिक और नवीन कृषि पद्धतियां और उपकरणों को आसानी से अपनाने में सहायता मिलती है |

 

  • यह योजना किसानों को फसलों के लिए Lon पद्धति बनाए रखती हैं, जिससे किसान अपनी फसलों को जोखिम से सुरक्षा कर सकता है |

 

  • भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति और महिला किसानों की अधिकतम कवरेज निश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है |

यह भी पढ़े – डिजिलॉकर (Digilocker) क्या है Digilocker का इस्तेमाल कैसे करें?

PMFBY में पॉलिसी की स्थिति कैसे जाने?

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना – PMFBY के जरिए बीमा पॉलिसी ( Insurance Policy ) की स्थिति Online जान सकते हैं |

  • सबसे पहले “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना” की ऑफिशियल वेबसाइट – Official Website पर विजिट करें |

 

  • अब भाषा बदले के बटन पर क्लिक करके आप अपनी इच्छा के अनुसार Language सेलेक्ट कर दें |

 

  • अब आपके सामने एक New Page Open होगा, जिस पर 6 अलग-अलग पोर्टल डिब्बे दिखाई देंगे, जिसमें विभिन्न जानकारियां उपलब्ध है |

 

  • Policy की स्थिति जानने के लिए आप 4th नंबर का विकल्प (पॉलिसी की स्थिति) को चयन करें |

 

  • अगली पेज पर अपना Resept नंबर डालकर Capca कोड Feel कर दें |

 

  • अब Check Status पर क्लिक करते ही आपकी Insurance Policy से जुड़ी संपूर्ण जानकारी उपलब्ध हो जाएगी |

यह भी पढ़े – India Post Payments Bank (IPPB) क्या है? और Account कैसे Open करें | – जानकारी हिंदी में

 

PMFBY- प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए Online आवेदन ई- मित्र सेवा केंद्र और Website Portel के जरिए कर सकते हैं |

  • Online Registration करनेेके लिए “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना” की Official Website – https://pmfby.gov.in/ पर visit करें |

 

  • Website पर सबसे पहले अपनी Language का चयन करें |

 

  • भाषा का चयन करने के बाद अगले Page पर आपको Portal में 6 अलग-अलग डिब्बे दिखाई देंगे | जिसमें 1st नंबर का विकल्प (किसान का आवेदन) चुने |

 

  • अब आपको २ विकल्प Log in For Farmer और Guest Farmer दिखाई देंगे |

 

  • अगर आप पहली बार इस Website पर रजिस्ट्रेशन Registration कर रहे हैं, तो आप Guest Farmer पर क्लिक करें और मांगी हुई जानकारी जैसे- नाम, पता, मोबाइल नंबर Feel करें और डॉक्यूमेंट को भी वेरीफाई करवा लें |

 

  • अब Create User पर क्लिक कर दें | अब आपसे आपके Bank Account से संबंधित जानकारी और आपके ग्रामीण क्षेत्र, पंचायत की पूरी जानकारी पूछी जाएगी, यह सब जानकारी भरने के बाद सबमिट पर क्लिक कर दें |

आपका “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना” में Registration Sucsesfully हो चुका है |

यह भी पढ़े – पुलिस कांस्टेबल कैसे बने? Eligibility, Selection Process और Salary

 

PMFBY- प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की कवरेज श्रेणी में कौन कौन आते हैं |

1. PMFBY-  किसानों के लिए कवरेज

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत वे लोग आते हैं जो अधिसूचित जगहों पर ज्यादातर निवास करते हो | अनुसूचित जगहो जैसे- ज्वार, बाजरा, मक्का, उड़द, मूंग, मोठ, मिर्ची, अरहर इत्यादि फसलों को उगाने वाले किसानों सहित सभी किसान “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना” कवरेज की श्रेणी में आते हैं |

2. PMFBY-  फसलों के लिए कवरेज

कवरेज के लिए बाजरा, अनाज और दालें जैसे खाद्य फसलें आकलन हेतु मानक पद्धति उपलब्ध है | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत इस प्रकार के खाद्य फसलें बीमा कवरेज के पात्र हैं |

3. PMFBY-  जोखिम के लिए कवरेज

किसानों द्वारा बोई हुई फसलों के जोखिम हेतु “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना” के जरिए बीमा कवर दिया जाता है | जिससे किसानों को होने वाली प्राकृतिक और जंगली जानवरों से फसलों के नुकसान की भरपाई हो सकें | फसलों के खराब होने पर इस योजना के जरिए किसानों को जो आर्थिक सहायता मिलती है, उससे किसान अपनी आय को बरकरार रख पाते हैं | जिससे फिर से खेती करके फसलों को उगाने में सक्षम हो सकें |

4. PMFBY-  बीमित राशि/कवरेज की सीमा

कवरेज की सीमा को ‘ जिला स्तरीय तकनीकी समिति -DLTC द्वारा निर्धारित किया जाता है, जिसे बीमित किसान बीमित फसल की अधिकतम उपज के मूल्य तक बढ़ाया जा सकता है | यदि अधिकतम उपज का मूल्य ऋण राशि से कम है तो भी बीमित राशि भी अधिक होगी |

यह भी पढ़े – ATM पिन कैसे चेंज करें? Net Banking और ATM मशीन से ATM Pin कैसे बदले?

किसानों द्वारा वहन की जाने वाली Primume दरें और बीमा शुल्क

APR (बीमा की प्रीमियम दर) को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत बीमा लागू करने वाली कंपनी द्वारा लिया जाएगा | किसानों द्वारा देय प्रीमियम की राशि खरीफ फसलों हेतु 2% है, जबकि रबी की फसलों के लिए 1.5% है | इसके अलावा बागवानी फसलों और वार्षिक वाणिज्य फसलों के लिए प्रीमियम दरें 5% तक है |

PMFBY में बीमा कब प्राप्त नहीं होता है?

फसल बीमा योजना के अंतर्गत निम्न कारणों क आधार पर फसलों के नुकसान को बीमा कवर नहीं करता है |

 

  • यदि किसी किसान की फसल को आपसी झगड़े नुकसान, चोरी, शत्रुता द्वारा हानि पहुंचाई जाती है, तो ऐसी स्थिति में बीमा प्राप्त नहीं होता है बल्कि पुलिस सहायता उपयुक्त होती है |

 

  • किसान की फसलों को घरेलू जानवर या किसी अन्य जानवरों द्वारा चरे जाने और अन्य रोके जा सकने वाले जोखिम को बीमा कवरेज से बाहर रखा जाता है |

 

  • मानवीय आपदा जैसे- चोरी करना, आग लगाना या सेंध लगाना इत्यादि फसलों के नुकसान में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत बीमा कवर नहीं मिलता है |

यह भी पढ़े – FASTag क्या है? और इसका इस्तेमाल कैसे करें?

PMFBY Registration के लिए ज़रूरी Document

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में Registration करने के लिए निम्न डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता होती है |

 

  • किसान का पहचान पत्र

 

  • खसरा संख्या

 

  • खाता नंबर

 

  • खेत की बुवाई के सबूत

 

  • आवास प्रमाण पत्र

 

  • बैंक खाता संख्या

 

  • किसान की फोटो

 

  • मोबाइल नंबर

इन सभी जरूरी और आवश्यक Document के साथ कोई भी किसान ‘ प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ‘ के लिए Apply कर सकता है |

यह भी पढ़े –जीएसटी GST क्या है? GST की पूरी जानकारी हिंदी में

 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना – PMFBY में बीमा कैसे और कब मिलता हैं?

जब किसानों की फसल खराब हो जाती है तो किसानों द्वारा दावा किए हुए राशि व्यक्तिगत ‘नेशनल लोड डिस्पैच सेंटर- NLDC’ एक नोडल एजेंसी है जो CERC अधिनियम 2014 के तहत योजना का कार्यान्वयन करती हैं |

बीमा राशि प्राप्त करने के लिए किसानों को आवश्यक यह है कि फसल की बुवाई 10 दिन के अंदर “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना- PMFBY” का फार्म भर दे तथा फसल काटने के 30 दिनों के भीतर भुगतान करने का दावा कर दें |

Admin

Leave a Reply